पति नामर्द तो अजनबी को नाजायज़ पति बनाकर चुदाई

नमस्ते दोस्तों, कैसे हैं आप सभी ? आप सभी को मेरा सादर प्रणाम ! मैं आशा करती हूँ कि आप सभी अच्छे होंगे और इस भागमभाग कि जिन्दगी में चुदाई के लिए वक़्त निकाल रहे होंगे |

मेरा नाम रवीना है और मैं कोटा की रहने वाली हूँ | मेरी उम्र 32 साल है और मैं एक शादीशुदा महिला हूँ | मेरे घर में मैं और मेरे पति रहते हैं | अभी हमारे बच्चे नहीं है | दोस्तों, मेरे पति कि वीर्य नहीं बनती है जिस वजह से हमारे बच्चे नहीं है | वैसे तो मैंने शादी के बाद कई लंड अपनी चूत में लिये हैं | पर मैं आप लोगो को अपनी पहली चुदाई के बारे में बताने जा रही हूँ | तो अब मैं आप लोगो का ज्यादा समय ना लेते हुए अपनी कहानी शुरू करती हूँ |ये कहानी आप हिंदी सेक्स कहानी डॉट ऑनलाइन पर पढ़ रहे हो।

ये घटना पिछले दो साल पहले की हैं | दोस्तों, शादी से पहले मैंने अपनी जिन्दगी में कभी चुदाई नही की थी | मैंने अपनी जवानी अपने पति के लिए बचा के रखी थी | पर शादी के बाद मेरे सारे अरमान मिटटी में मिल गये जब सुहागरात के वक़्त मेरे पति मेरी चुदाई करते हुए महज 10 मिनट में ही चुदाई कर के थक गये | मैं परेशान हो गयी थी क्यूंकि मैं बहुत जोश में आ चुकी थी और मुझे चुदाई में मजा आने लगा था | पर ये सब देख कर मैं बहुत निराश हो गयी | उसके बाद मैंने अपनी चूत में ऊँगली डाल कर अपने आप को शांत की | वो रोज मुझे चोदते और रोज ऐसे ही थक कर सो जाते और मैं प्यासी रह जाती | सबसे बड़ी बात यह है कि मेरे पति का माल ही नहीं निकलता | ऐसे ही हमारी शादी को एक साल हो चला था और मैं बस एक पतिव्राथा पत्नी बन के रह गयी थी | कुछ दिन के लिए मैं अपने मम्मी पापा के घर गये हुई थी |

उसके बाद जब मैं कोटा वापस आ रही थी तब ट्रेन में मुझे एक 19 साल का जवान लड़का मिला जिसका नाम अरविन है | वो काफ़ी हेंडसम है दिखने में और उसकी कद काठी भी उसके हिसाब से सेक्सी है | जब में ट्रेन में थी तब मेरी मुलाकात उससे हुई थी मेरी लोअर बर्थ थी और उसकी ऊपर बर्थ | ऐसे ही यहाँ वहां की बाते करने के बाद मैं उसपे फ़िदा हो गयी और उसे अपने घर का एड्रेस दे दी | एक दिन की बात है मेरे पति काम पर गये हुए थे और मैं अपने घर का काम कर रही थी  | तभी किसी ने दरवाजे पर दस्तक दिया | मैंने दरवाजा खोला तो देखा कि ये तो अरविन है | मैं उसे देख कर अचंभित हो गयी और फिर उसे मैं अन्दर आने को कहा |ये कहानी आप हिंदी सेक्स कहानी डॉट ऑनलाइन पर पढ़ रहे हो।

उसके बाद मैंने दरवाजा बंद किया और हम बैठ कर बात करने लगे | मैंने उससे खुल कर बोल दी कि अरविन मैं तुम्हारे साथ सेक्स करना चाहती हूँ | अरविन ये बात सुन कर चौंक गया | उसने मुझसे कहा कि हम बस एक बार मिले है और आप इतना बड़ा कदम उठा रहे हो | मैंने उससे कहा कि अरविन मैं तुमसे प्यार करने लगी हूँ और मैं रोज तुम्हे याद करती हूँ तो मेरी चूत भीग जाती है | मैं तुमसे बस चुदना चाहती हूँ | अरविन भले ही मेरे सामने सीधा बन रहा था पर वो चुदाई का मास्टर है | ये मुझे तब चला जब मैं उससे चुदी | मैं अरविन से बार बार कह रही थी कि मुझे तुमसे चुदना है पर अरविन मेरी बात मान नहीं रहा था | फिर मैंने उसके सामने ही अपने कपडे उतारने चालू कर दिए | मैंने सबसे पहले अपनी साड़ी उतारी और फिर उसके बाद पेटीकोट |  वो मुझे बड़े गौर से और हवस भरी नजरो से देख रहा था |

मैं उसके सामने ब्रा और पेंटी में ही बस खड़ी थी | वो अचानक से एक भूखे शेर कि तरह मेरे ऊपर टूट पड़ा | उसने मेरे होंठ पर अपने होंठ रख दिए और मुझे किस करने लगा | मैं तो जोशीली हो गई थी तो मैंने भी उसका साथ देना शुरू कर दी और उसके होंठ को चूसने लगी | अब हम दोनों एक दूसरे को सहलाने लगे और किस कर रहे थे | किस्सिंग के बाद मैं नीचे झुकी और उसके पेन्ट को उतार दी | वो मेरे सामने अंडरवियर में आ गया | फिर मैंने उसके लंड को अंडरवियर के ऊपर से ही सहलाना चालू कर दी | जब मैं उसके लंड को सहला रही थी तो वो आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ की सिस्कारिया लेने लगा | मैं समझ गयी थी कि इसको मेरा ऐसा करना अच्छा लग रहा था | फिर मैंने उसके अंडरवियर को भी उतार दी |ये कहानी आप हिंदी सेक्स कहानी डॉट ऑनलाइन पर पढ़ रहे हो।

अब वो मेरे सामने नीचे से पूरा नंगा हो चुका था | मैं उसके लंड को हाँथ में ले कर हिलाने लगी | उसका लंड मेरे पति के लंड से बड़ा और मोटा था | फिर मैंने उसके लंड को चाटने लगी और वो आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ की सिस्कारिया लेने लगा | उसने अब अपनी टी-शर्ट भी उतार दिया और पूरा नंगा हो गया | उसके लंड का स्वाद मुझे अच्छा लग रहा था | फिर मैंने उसके लंड को अपने मुंह में लिया\ और उसके सुपाडे को होंठ में कास कर दबा कर चूसने लगी | अरविन आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए आन्हे भरने लगा |

मैं उसके लंड को अपने गले तक नीचे उतार कर चूस रही थी और वो बस आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए मेरे मुंह की चुदाई करने लगा |ये कहानी आप हिंदी सेक्स कहानी डॉट ऑनलाइन पर पढ़ रहे हो।

उसके बाद मैं खड़ी हुई तो उसने मेरे दूध पकड लिए और मेरी आँखों में आँखे डाल कर देखने लगा | मैं आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए उसके लंड को हिलाने लगी | फिर उसने मेरे दूध को ब्रा की कैद से आजाद कर दिया | अब वो मेरे दूध को अपने मुंह में ले कर चूसने लगा और मैं आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए उसके सिर के बाल को सहलाने लगी | वो मेरे दूध को सहलाते सहलाते मेरे निप्पलस को अपने होंठ में दबा कर मसल रहा था और मैं बस आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए सिस्कारिया भर रही थी |

उसके बाद उसने मुझे सोफे पर लेटा दिया और मेरी पेंटी को अपने दांतों के सहारे उतार दिया | अब मैं भी पूरी नंगी हो चुकी थी | अब वो मेरी सुंदर चिकनी चूत को अपने जीभ से चाटने लगा | वो मेरी चूत को रगड़ रगड़ के चाट रहा था और मैं आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए अपने दूध को मसल रही थी | फिर उसने मेरी चूत को ऊँगली से चोदना चालू कर दिया और चाट रहा था और मैं बस आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए उसके सिर को अपने चूत पर दबाने लगी | फिर उसने अपना लंड मेरी चूत पे तैनात किया और धीरे धीरे लंड को मेरी कमसिन चूत में डालने लगा | मैं आँख बंद कर के आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करने लगी |

अब उसका लंड पूरा अन्दर जा चुका था और वो मेरे चूत की चुदाई करने लगा | मैं भी आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए चुदाई का असली मजा ले रही थी | वो जोर जोर से मेरी चूत को चोदने लगा और मैं भी आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए अपनी गांड उठा उठा कर साथ देने लगी | करीब उसने मेरी चूत को 45 मिनट तक खूब चोदा और मैं उसी दौरान 5 बार झड़ी थी | फिर मैंने उसके लंड को अपने मुंह में डाल कर चूसने लगी और वो मेरे मुंह में ही झड गया | मैंने उसे अमृत समझ कर पी ली | उसके माल का स्वाद काफ़ी अच्छा था और गाढ़ा था |ये कहानी आप हिंदी सेक्स कहानी डॉट ऑनलाइन पर पढ़ रहे हो।

मेरी चुदाई के बाद मेरे चेहरे पे नूर सा आ गया और मैंने सोचा कि अगर ये इतनी अच्छी चुदाई करता है तो इसे अपना नाजायज़ पति बनाने में क्या दिक्कत है ?फिर मेने उसे अपना नाजायज़ पति बना लिए और वह मुझे रोज चोदने आता है में दिन में उसके बड़े लंड से चुदती हु और रत में पति के छोटे लंड से।

Leave a Reply