बहन की होटल में चुदाई

हेलो दोस्तों मेरा नाम विनय है में आज आप को बताउगा की कैसे मेने मेरी बहन को चोदा होटल में तीन दिन तक।

दोस्तों मेरी बहन बला की खूबसूरत है और वो एकदम काम देवी का रूप लगती है,उसकी बड़ी-बड़ी गांड जब वो जीन्स पहनकर चलती है ।और मटकती है तो सब देखने वालो के लंड कड़क कर देती है, वो बहुत सेक्सी और हॉट लड़की है।उसका नाम अंजली है

अब में सीधा स्टोरी पर आता हूँ, मेरी बहन का जॉब इंटरव्यू मुंबई में था, तो में मेरी बहन के साथ मुंबई गया उसका इंटरव्यू शुक्रवार को था। और हमने हमारी रिटर्न रिज़र्वेशन सोमवार की करवाई थी, ताकि हम दिल्ली घूम सके।

फिर शुक्रवार को सुबह मुंबई पहुँचने के बाद में और मेरी बहन एक होटल में गये और वहाँ हमने एक कमरा बुक करवाया, अब जब में रजिस्टर में एंट्री कर रहा था तो मैनेजर ने कहा कि सर आपकी वाईफ बहुत सुंदर है।फिर मैंने उसे थैंक्स कहा और फिर हम रूम में चले गये और कमरे में आकर हम दोनों खूब हँसे और फिर हम तैयार होकर इंटरव्यू के लिए निकल गये।

फिर लौटते हुए हम दोनों घूमते हुए शाम के 7 बज चुके थे, अब रोड़ पर बहुत सी गर्ल्स हॉट ड्रेस में अपने-अपने बॉयफ्रेंड के साथ खड़ी हुई थी।अब में और मेरी बहन उनको घूर-घूरकर देख रहे थे. फिर हम बस स्टॉप पर गये, अब वहाँ हम दोनों के अलावा कोई भी नहीं था।

ये कहानी आप हिंदी सेक्स कहानी डॉट ऑनलाइन पर पढ़ रहे हो।

अब बस आने में 10 मिनट बाकी थे, तो अब हम दोनों बातें कर रहे थे कि स्टॉप के शेड के पीछे से हमें आवाज़ आ रही थी ।भैया अब घर चलो ना बहुत देर हो गई है मम्मी इंतजार कर रही होगी और उनके प्यार करने की आवाज़ आ रही थी।

फिर अंजली ने मेरी तरफ़ देखा और मैंने अपनी नज़रे घुमा ली,फिर हम दोनों बस में बैठकर होटल आ गये, फिर हमने वही नीचे खाना खाया और फिर अपने कमरे में चले गये । फिर हम दोनों ने कमरे में आकर चेंज किया और बेड पर बैठकर बातें करने लगे।

फिर मैंने टी.वी चालू किया और फिर अनीता ने धीरे से कहा कि भैया वो बस स्टॉप याद है, तो मैंने कहा कि हाँ, तो अंजली ने मुझे देखकर स्माइल दी।फिर रूम की डोर बेल बजी और अनीता ने दरवाज़ा खोला, तो वेटर ने एक पैकेट देकर कहा कि ये आप दोनों के लिए मैनेजर सर ने दिया है ।

फिर उस बॉक्स कोअंजली ने मुझे दिया और कहा कि भैया इसमें क्या है? फिर मैंने बॉक्स के ऊपर देखा तो उसमें लिखा था ।ए गिफ्ट फॉर ए लवली एंड न्यू वेडिंग कपल, अब उसे देखकर हम दोनों खूब हँसे, अब अंजली बेड के पास खड़ी थी और उसने सिल्क नाइटी पहन रखी थी जिसमें उसका पूरा बदन और उसके उभार साफ-साफ़ दिख रहे थेअंजली ।

अब वो काम की देवी लग रही थी जो कह रही हो आओ मुझे अपनी बाहों में भरकर रातभर प्यार करो और में बनियान और पजामे में था। अब मेरा लंड थोड़ा-थोड़ा हार्ड हो रहा था,फिर अंजली ने मुझसे कहा कि भैया यहाँ का मैनेजर तो मुझे आपकी वाईफ बनाकर ही छोड़ेगा,फिर में हँसने लगा और बेड से खड़ा हो गया, फिर मैंने कहा कि तो इसमें कोई हर्ज़ है क्या? तो अंजली ने कहा कि अच्छा, क्या मतलब भैया?

ये कहानी आप हिंदी सेक्स कहानी डॉट ऑनलाइन पर पढ़ रहे हो।

फिर में अंजली के पास गया और उसके सामने जाकर एक घुटने पर बैठकर बोला कि अंजली मेरी प्यारी बहन आई लव यू, आई रियली लव यू सो मच, तुम बहुत सुंदर हो और में तुमसे कई दिनों से कहना चाह रहा था, लेकिन आज हिम्मत हो पाई है आई लव यू अंजली अब मेरी बहन अंजली तो जैसे शॉक ही रह गई, लेकिन उसने एक सेक्सी स्माइल दी और बोली कि ऑश सो स्वीट भैया आई लव यू टू मच और मुझे मेरा हाथ पकड़कर उठाया और हग कर लिया।

फिर मैंने भी उसे टाईट हग किया और अब हम एक दूसरे की बाहों में बाहें डालकर खड़े थे,फिर मैंने अंजली के नर्म-नर्म मुलायम होंठो को अपने होंठो पर रखकर चूसा और उसकी जीभ को चूसा और उसके मुँह से निकलने वाली लार और उसके थूक को पीने लगा।

अब वो भी मेरी जीभ चाटने चूसने लगी और मेरे सिर पर अपना हाथ फैरती रही, फिर मैंने अंजली की नाइटी को ऊपर किया और उसे उतारकर फेंक दी, अब अंजली बस पेंटी और ब्रा में थी, उसने रेड कलर की पेंटी और ब्रा पहन रखी थी, जिसमें उसका सेक्सी बदन और बहुत मादक लग रहा था।

फिर अंजली ने मेरी बनियान और पजामा भी उतार दिया और अब हम दोनों भाई बहन केवल अंडरगारमेंट्स में थे और एक दूसरे को हग कर रहे थे. अब हम दोनों का बदन जब एक दूसरे से मिला तो हम दोनों के बदन में एक आग सी लग गई और हम दोनों बहुत गर्म हो गये. फिरअंजली ने मुझे धक्का देकर अपने से अलग किया और बेड पर बैठने का इशारा किया तो में बेड पर बैठ गया।

अब मेरी बहन अंजली मेरे सामने खड़ी थी और अपनी कमर धीरे-धीरे हिला रही थी, वो बहुत सेक्सी लग रही थी. फिर उसने कहा कि भैया आज आपकी बहन आपके सामने आपकी प्रेमिका बनकर है, आज आपको अपनी बहन को बहुत चोदना है ना।

ये कहानी आप हिंदी सेक्स कहानी डॉट ऑनलाइन पर पढ़ रहे हो।

मैंने कहा कि हाँ मेरी प्यारी बहन, तो अंजली ने कहा कि तो अपनी प्यारी बहन को भैया अपना लंड नहीं दिखाओगे. अब मैंने ये सुनते ही अपना अंडरवेयर उतार दिया और अब मेरा लंड एकदम कड़क था और अपनी बहन को सलामी दे रहा था।फिर अनीता ने कहा कि वाह भैया आपका लंड तो बहुत मोटा और बड़ा है ये तो आज आपकी बहन की फाड़ ही देगा, तो मैंने कहा कि हाँ मेरी बहन आज तो तेरी फट ही जाएगी।

फिर अंजली ने हल्का-हल्का डांस करना शुरू किया और अब वो किसी पॉर्न स्टार की तरह अपनी कमर, बूब्स और गांड हिला रही थी। फिर उसने अपनी ब्रा उतारकर मेरे पास फेंक दी, ओहह मेरी बहन के बूब्स बहुत बड़े और सॉफ्ट थे और उसके निपल्स भी भूरे और काफ़ी बड़े थे।

फिर अनीता ने अपने बूब्स हिला-हिलाकर मुझे दिखाए और फिर अपनी पेंटी भी खोलकर मेरे पास फेंक दी और फिर मुझे अपनी चूत दिखाने लगी । उसकी चूत एकदम क्लीन थी और उस पर एक भी बाल नहीं था और उसकी पिंक कलर की चूत के दोनों लिप्स भी लटक रहे थे।

फिर वो पीछे मुड़ी, तो अब उसकी बड़ी गोल गांड देखकर तो मेरा पानी निकल ही गया। अब वो अपनी गांड को हिला-हिलाकर और अपनी कमर को मटका-मटकाकर मुझे दिखा रही थी और मेरा हाल बुरा हो रहा था। फिर अंजली ने देखा कि मेरा वीर्य निकल गया है तो वो बोली कि भैया अपनी बहन की जवानी देखकर ही छूट कर दी।

फिर वो मेरे पास आई तो मैंने उसे किस किया, उसके होंठो को चूमा और उसके बूब्स को हल्का-हल्का मसलने लगा. अब अंजली मस्त होती जा रही थी और अब उसकी चूत से पानी बाहर आने लगा था। फिर मैंने अंजली के बूब्स को अपने मुँह में लेकर चूसा, तो उसकी आहह निकलने लगी, अब वो मेरे सिर पर अपना हाथ फैर रही थी और में उसके बूब्स चूस रहा था।

मैंने अंजली का एक पैर बेड पर रखा और उसकी कमर पर किस करता हुआ उसकी चूत पर गया। फिर अंजली ने कहा कि भैया आहह चाट लो अपनी कुंवारी बहन की जवान चूत का पानी, अब में मेरी बहन अनीता की चूत चाट रहा था, उसकी चूत का पानी बहुत नमकीन था।

अब मुझे बहुत मज़ा आ रहा था और मेरी अंजली आहह उउफ़फ्फ़ आहह कर रही थी. फिर में बेड पर बैठा और अंजली का हाथ पकड़कर अपने लंड पर रख दिया, तो फिर अनीता नीचे झुकी और मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर चूसने लगी। अब उसने मेरा लंड लॉलीपोप की तरह अपने मुँह से चूसा था।

ये कहानी आप हिंदी सेक्स कहानी डॉट ऑनलाइन पर पढ़ रहे हो।

फिर करीब 20 मिनट तक ये सब करने के बाद अंजली मेरी गोदी में बैठने लगी, तो अब मेरा पूरा लंड मेरी सग़ी बहन की चूत में चला गया और फिर वो मेरे ऊपर उछलने लगी, अब उसके मुँह से लगातार सिसकियां निकल रही थी हह फुक मी भैया हहह चोदो और आहह फाड़ दो आज मेरी जवानी को हहह.

फिर 5 मिनट के बाद मैंने अंजली को बेड पर लेटा दिया और उसके ऊपर चढ़ गया, फिर मैंने उसकी चूत में अपना पूरा लंड डाल दिया, तो मेरी बहन अनीता की चीख निकल गई आआईईई आअहह माँ हहह और में जोर-जोर से धक्के मारकर अपनी बहन को चोदने लगा। अब इस बीच अंजली की चूत 2 बार खाली हो गई थी और मेरा पूरा लंड भीग चुका था।

ये कहानी आप हिंदी सेक्स कहानी डॉट ऑनलाइन पर पढ़ रहे हो।

फिर मैंने अंजली की चूत में से अपना लंड बाहर निकालकर उसके मुँह में डाल दिया और मेरी बहन अंजली मेरा लंड चूसने लगी, फिर मैंने अंजली को कहा कि मेरी प्यारी बहन अपने भाई को अपनी गांड नहीं दिखाएगी, तो अनीता तुरंत घोड़ी बनकर बैठ गई और बोली कि लो भैया देख ।

फिर मैंने अंजली की गांड को देखा और उसकी गांड के छेद को देखा और फिर उसे स्मेल किया, तो उसकी गांड से भीनी-भीनी खुशबू आ रही थी. फिर मैंने देखा कि मेरी बहन की गांड का छेद बहुत बड़ा था और अब मेरा मेरी बहन की गांड चाटने का मन था।

और फिर में भी जोश में आ गया और अनीता की गांड के छेद पर अपनी जीभ रखकर उसकी गांड चाटने लगा, आह उसका स्वाद थोड़ा कसैला सा था, लेकिन जोश में मुझे वो सब बहुत अच्छा लग रहा था,अब में अनीता की गांड चाटे जा रहा था।

फिर अंजली बोली कि भैया 2 मिनट रूको, तो मैंने कहा कि क्या हुआ बहन मज़ा नहीं आया क्या? तो अंजली ने कहा कि बहुत मज़ा आ रहा है मेरे राजा, आपको कैसी लगी अपनी बहन का गिफ्ट? तो मैंने कहा कि बहुत मज़ेदार मेरी बहन।

ये कहानी आप हिंदी सेक्स कहानी डॉट ऑनलाइन पर पढ़ रहे हो।

फिर अंजली अपनी गांड हिलाने लगी तो मैंने कहा कि आह मेरी जान तूने तो मज़ा ही ला दिया, फिर अंजली ने मुझे लेटने को कहा और खुद अपनी गांड के छेद को मेरे मुँह पर रखकर बोली कि भैया लो चाटो ना, तो फिर में अंजली की गांड फिर से चाटने लगा और फिर उसने मेरे मुँह में ही मूत दिया।

और फिर वो 69 की पोजिशन में आकर मेरा लंड चूसने लगी. अब उसकी चूत झड़ने लगी थी और अब मेरे लंड से भी वीर्य निकलने लगा था और फिर हम दोनों एक दूसरे के मुँह में ही झड़ गये।

थोड़ी देर बाद मेरा लंड फिर खड़ा हो गया फिर मेने अंजली को घोड़ी बनाया और उसकी गांड में अपना लंड डाला तो उसके मुँह से जोर से चीख निकले नहीं भैया अहा अहहह अहहअहाहा फिर मेने अपना लंड निकला और उसकी गांड बहुत सारा लोसन लगाया।

फिर एक ही बार लंड उसकी गांड में डाला उसके मुँह से आवाज आई नहीं अहह अहह मर गई, फिर मे थोड़ी देर वैसे ही रुका और फिर धीरे धीरे उसकी चुत में लंड अंदर बहार करने लगा अंजली अहह अहह अहहह की आवाज निकाल रही थी थोड़ी देर बाद मेने अपना सारा वीर्य उसकी गांड में छोड़ दिया।

अब हम दोनों बहुत थक गये थे, फिर में और अंजली दोनों नंगे ही एक दूसरे की बाहों में ही सो गये, फिर इसके बाद हमने मुंबई में 3 दिन और बिताए और इन 3 दिनों में मैंने और अंजली ने बहुत मज़े किए।

Leave a Reply