बिज़नेस के लिए विदेशी क्लाइंट से चुदाई

हेलो दोस्तों मेरा नाम रिया है और मेने अपने बिज़नेस डील के लिए मेरे क्लाइंट से मेरी चुत और गांड चुदाई।
मेरे उम्र 26 साल है और में अपने हस्बैंड के साथ मिलकर बिज़नेस करती हु, में दिखने में सुन्दर हु और मेरी गांड देखकर कोई भी मेरा दीवाना हो जाता है ,एक बार एक विदेशी क्लाइंट से में डील करने गई थी उसका नाम थॉमस था उन्होंने मुझे एक होटल में डील करने बुलाया था ,में उनसे अकेली डील करने गई ,क्युकि मेरे पति बहार गए थे।
जब में उनको डील की डिटेल बता रही थी तो वह मुझे बहुत घूर रहे थे,फिर उन्होंने मुझसे कहा की डील तो में दोने कर दुगा पर मुझे तुम्हारे साथ एक रात बिताना है ,में सकपका गई मेने बोला सर आप ये क्या बात कर रहे है में शादीशुदा हु ,तो उन्होंने बोलै की तुम मेरे साथ एक रात गुजारोगी तो ही में तुमसे डील करुगा वर्ना नहीं करुगा तुम सोच लो।
फिर में सोचने लगी और मेने डिसाइड किया की मुझे चुदवा लेना चाहिए वैसे भी मेरे पति तो थे नहीं तो घर की भी प्रॉब्लम नहीं थी और थॉमस एक हट्टा कट्टा आदमी था और मेरी चुत में भी खुजली हो रही थी ,फिर थोड़ी देर बाद मेने हा कर दी।

ये कहानी आप हिंदी सेक्स कहानी डॉट ऑनलाइन पर पढ़ रहे हो।

उसके बाद थॉमस और मेरा फोरप्ले शुरू हुआ. थॉमस मुझे इधर उधर चूमने लगा. कभी वो मेरे सीने को चूमता, तो कभी फिर पीठ को. थॉमस मुझे चूमे जा रहा था और मैं उसका साथ दे रही थी. एक हाथ से थॉमस मेरे एक बूब को दबा भी रहा था और दूसरा बूब अपने मुँह में लेकर मेरे चूचे के निप्पल को खींच रहा था और काट रहा था.

मैं अपना काम बनाने के लिए थॉमस को गरम करने के लिए कामुक सिसकारियां ले रही थी ‘आह आह सर उफ्फ्फ उफ्फ्फ सर.’

हमारा फोरप्ले कुछ मिनट तक चला. मैं पूरी तरह से गर्म हो चुकी थी और मेरी चुत ने हल्का हल्का रस छोड़ना भी शुरू कर दिया था.

अब थॉमस लेट गया और मुझसे अपने कपड़े उतारने के लिए बोला.
मैंने उसकी टी-शर्ट उतार दी और उसकी जींस का हुक खोल कर उसे भी उतार दिया.

थॉमस बहुत ही ज्यादा मजबूत लग रहा था. मुझे पता था कि आज मेरी जमकर चुदाई होने वाली है … शायद कल से भी ज्यादा दर्दनाक … या मजेदार चुदाई होगी.

वह सिर्फ एक ब्लैक फ्रेंची में था. मैंने अपने दांतों से उसकी फ्रेंची को पकड़ कर नीचे उतार दिया और उसका लंड अब मेरी नजरों के सामने तन्ना रहा था. उसका लंड बहुत ही ज्यादा मोटा और लगभग बारह इंच लम्बा था. मैं उसके लंड को देख कर एकदम से सहम गयी.

मैंने उसके लंड को अपने हाथ में लिया, जो कि मेरे हाथ में पूरी तरह नहीं आ रहा था. मैंने उसके लंड के टोपे को किस किया और फिर धीरे धीरे उसका पूरा लंड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी. थॉमस के लंड से बड़ी अजीब सी महक आ रही थी, पर मुझे उसे चूसना पड़ा.

थॉमस का लंड पूरा मेरे मुँह में नहीं आ रहा था. मैं थॉमस का लंड चूसने लगी और थॉमस आहें भरने लगा ‘आह आह हहह..’

मैंने थॉमस के लंड को चूस-चूस कर पूरा खड़ा कर दिया था. मैंने थॉमस का लंड लगभग दस मिनट तक चूसा.

उसके बाद थॉमस ने अपना लंड मेरे मुँह से बाहर निकाल लिया और मुझे बेड पर लेटा कर मेरी दोनों टांगें खोल दीं. वो मेरी चुत के पास आ गया और अपने मोटे मोटे होंठ मेरी चुत में रख कर उसे चूसने लगा.

मैं आहें भरने लगी- आह सर आह आह … उई मम्मी … आहहह.

तभी थॉमस अपनी दो उंगलियां मेरी चुत में डाल कर अन्दर बाहर करने लगा.

मुझसे बर्दाश्त ही नहीं हो रहा था. मैं उसके सर को पकड़ कर अपनी चुत में दबाने लगी. दस मिनट तक थॉमस ने मेरी चुत को चूसा. अब मैं अपनी चरम सुख पर आ गई थी और मैं झड़ने लगी. मैं थॉमस के मुँह पर ही झड़ गयी. थॉमस ने मेरी चुत में अपनी जीभ डाल कर मेरा सारा रस चूस लिया.

उसके बाद थॉमस बेड पर लेट गया और उसने मुझसे फिर से लंड चूसने को कहा.

मैंने थॉमस का लंड अपने हाथ में लिया और उसे फिर से मुँह में लेकर चूसने लगी. थॉमस मेरे बाल पकड़ कर अपने लंड पर धक्का लगा रहा था.

कुछ मिनट लंड चुसवाने के बाद उसका लंड पूरी तरह से खड़ा हो गया. उसने मुझे बेड पर लेटा दिया और मेरी दोनों टांगों को अपने कंधों पर रख लिया.

हमारा पहला राउंड शुरू होने वाला था. उसने अपने लंड को मेरी चुत पर रखा और एक तेज की धक्का मारा.
उसका आधे से ज्यादा लंड मेरी चुत में चला गया और मैं जोर से चिल्ला उठी ‘आह सर.’

उसने एक दो झटके और मारे और अपना 12 इंच का लंड मेरी चुत में उतार दिया. मेरी आंखें उबल गई थीं.
मगर उसे तो मानो कोई परवाह ही नहीं थी. उसने धक्के मारना शुरू कर दिए और मैं जोर-जोर से चिल्लाने लगी ‘आह आह सर आह आह्ह प्लीज धीरे धीरे आह सर आह.’

थॉमस मेरी चीखों को सुनकर और भी जोश में आ गया. वो और जोर-जोर से धक्के मारते हुए मुझे चोदने लगा.
मैं कमरे में जोर-जोर से कराह रही थी और आहें भर रही थी ‘आह आह आह मर गई … आपका बहुत बड़ा है … सर आह्ह उफ़ उफ्फ्फ सर प्लीज धीरे धीरे सर … धीरे आह.’

थॉमस मुझे अब तक 30 मिनट चोद चुका था और मैं झड़ने लगी थी. पर थॉमस अभी भी मुझे चोदे जा रहा था और मैं आहें भर रही थी. मैं झड़ गई मगर थॉमस ने मुझे लगातार चोदता रहा.

कुछ देर बाद वो भी झड़ने वाला था. उसने अपना लंड निकाल कर मेरे मुँह में डाल दिया. मैंने उसके लंड को दो मिनट चूसा, तो थॉमस मेरे मुँह में ही झड़ने लगा.

ये कहानी आप हिंदी सेक्स कहानी डॉट ऑनलाइन पर पढ़ रहे हो।

थॉमस ने अपना सारा माल मेरी मुँह न निकाल दिया. थॉमस का माल बहुत गाड़ा था और नमकीन था, जो कि मुझे पसंद आया था. मैंने उससे रस को पूरा पी लिया और उसके लंड पर लगे हुए माल को भी पूरा चाट लिया.

थॉमस खुश हो गया था.

मैं उसके साथ चिपक कर बेड पर लेट गई. थोड़ी देर बाद थॉमस खड़ा हुआ और मेरे ऊपर आ गया. वो मुझे चूमने चाटने लगा. मैं कामुक आहें भरने लगी.

कुछ ही मिनट बाद मैं भी गर्म हो गयी. इस बार मैंने थॉमस को बेड पर लेटा दिया और उसका लंड अपने हाथ में लेकर मुँह में ले लिया और चूसने लगी.

अब मुझे थॉमस का लंड चूसने में बहुत मजा आ रहा था. थॉमस को भी लंड चुसवाने में बहुत मजा आ रहा था.

लगभग दस मिनट लंड चूसने के बाद थॉमस का लंड खड़ा हो गया.

थॉमस ने मुझसे कहा- अब तुम मेरे ऊपर आ जाओ.

तब मैं थॉमस के ऊपर आ गयी और अपनी दोनों टांगें खोल कर मैंने थॉमस के खड़े लंड को अपने हाथ में लेकर अपनी चुत पर सैट कर लिया. लंड का सुपारा मेरी चुत पर दहकने लगा था.

मैं लौड़े पर बैठ गयी और थॉमस का आधा लंड मेरी चुत में आ गया. मेरी एकदम से चीख निकल गयी. मैं थॉमस के लंड पर एक दो बार उछली और उसके लंड को पूरा अन्दर तक ले लिया. मैंने थॉमस के लंड पर बैठ कर उसके लंड को अपनी चुत में अच्छे से सैट किया और फिर उस पर उछलने लगी और चीखने लगी ‘आह्ह आह्ह उफ़ उफ्फ आपका तो मेरी फाड़ ही देगा उफ्फ्फ मम्मी मर गई रे.’

मुझे मालूम था कि इसको मेरी चीखें सुनने में ज्यादा मजा आएगा इसलिए मैं मजा लेते हुए कुछ ज्यादा ही चीखने लगी थी.

उसका लंड मुझे बड़ी लज्जत दे रहा था. मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और थॉमस के लंड पर बैठ कर और जोर-जोर से उछलने लगी.

थॉमस को भी बहुत मजा आ रहा था और मुझे भी. जैसा कि आप सभी को पता है कि मुझे लंड पर बैठ कर उछलने में बहुत मजा आता है. मैं रोज रोहन के लंड पर उछलती हूँ. वैसे ही मैं थॉमस के लंड पर जोर-जोर से उछल रही थी.

साथ ही मेरी गरम आवाजें थॉमस को बेहद सुकून दे रही थीं.

मैं तेज आवाजें निकालते हुए उसके लंड पर अपनी गांड लहरा रही थी. मेरे चूचे हवा में जोर-जोर से उछल रहे थे. मैं अपने दांतों से अपने होंठ को भी काट रही थी. थॉमस मेरी चूचियों को पकड़ कर उन्हें मसल कर मजा ले रहा था.

मैं थॉमस के लंड पर लगभग आधा घंटा उछली. अब थॉमस झड़ने वाला था और मैं उसके माल को ख़राब नहीं करना चाहती थी. इसलिए मैं उसके लंड से नीचे उतर गयी और उसके लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी.

पांच मिनट लंड चूसने के बाद थॉमस मेरे मुँह में ही झड़ गया और मैंने उसका सारा माल पी लिया.

थॉमस और मैं बेड पर नंगे ही लेट गए. थोड़ी देर बाद थॉमस उठा और उसने मुझसे व्हिस्की के लिए पूछा. मैंने हां कर दी. वो लंड हिलाता हुआ बोतल ले आया और नीट ही मुँह से लगा कर पीने लगा. उसने मुझे बोतल पकड़ा दी और खुद सिगरेट सुलगाने लगा.

मैंने भी बोतल मुँह से लगाई और दो लम्बे घूँट खींच लिए. नीट दारू एक आग के जैसे मेरे गले के नीचे उतरती चली गई. मैंने थॉमस के हाथ नसे सिगरेट ले लिए और मुँह का स्वाद ठीक किया.

अब वो मुझसे बोला- डार्लिंग, इस बार तुम डॉगी पोजीशन में आ जाओ.
मैंने कहा- ओके सर.

मैं झट से डॉगी बन गयी. थॉमस ने मेरी गांड पर थूक लगाया और मैं समझ गयी कि अब थॉमस मेरी गांड मारेगा.

मैंने एक बार थॉमस को रोकने का नाटक किया. मैंने बोला- सर प्लीज आप मेरी गांड मत मारो … आपका लंड बहुत मोटा है … मेरी गांड में दर्द हो जाएगा.
मैं रोने का ड्रामा करने लगी और गिड़गिड़ाने लगी.

इससे थॉमस नहीं माना और मेरी गांड मारने की जिद करने लगा. मैं उसे पूरी तरह से संतुष्ट कर देना चाहती थी ताकि इसके दिमाग में कोई कीड़ा बाकी न रह जाए.

मैंने मायूसी से थॉमस से कहा- सर प्लीज़ आप एक मिनट रुकिए.
वो रुक गया. मैंने उसे बेड पर लेटा दिया और उसका लंड दस मिनट तक चूसा और उसे एकदम चिकना कर दिया.

ये कहानी आप हिंदी सेक्स कहानी डॉट ऑनलाइन पर पढ़ रहे हो।

वो खुश हो गया. उसने मुझे दुबारा घोड़ी बन जाने को बोला. मैं घोड़ी बन गयी और रोने लगी. पर थॉमस नहीं रुका. उसने अपना लंड मेरी गांड के छेद पर रखा और झटका दे मारा और उसका लंड मेरी गांड को चीरता हुआ अन्दर चला गया.

मैं जोर से चीख उठी. मुझे हल्का सा दर्द हुआ था मगर ड्रामा करना जरूरी था.

उसने दूसरे झटके में अपना पूरा लंड मेरी गांड में डाल दिया और मुझे तेजी से चोदना शुरू कर दिया. उसका मलंद मेरी गांड की खुजली को बड़े मस्त तरीके से मिटा रहा था.

मगर मैं जोर-जोर आहें भरने लगी ‘आह मर गई … मेरी गांड फट गई … ऊफ्फ उफ़ सर सर … प्लीज धीरे सर सर प्लीज धीरे आह.’

मेरी चिल्लपौं से थॉमस भी जोश में आ गया था. वो मेरी गांड को जोर-जोर से चोदने लगा था. मेरी गांड से हल्का सा खून भी आने लगा था, पर थॉमस नहीं रुका और लगातार मुझे चोदता रहा.

थॉमस ने कई मिनट तक लगातार मेरी गांड मारी और वो हांफने लगा. फिर थॉमस और मैं एक साथ झड़ गए. थॉमस ने मेरी गांड में ही अपना माल निकाल दिया.

उसके बाद थॉमस और मैं नंगे ही लेट गए. उस रात थॉमस ने मेरी चुत को दो बार चोदा और एक बार गांड और मारी. इसकी वजह से मैं बहुत थक चुकी थी. हम दोनों ने बोतल को खाली किया और नंगे ही लेट गए. थॉमस बेड पर लेटा हुआ था और मैं थॉमस के ऊपर लेटी हुई थी.

दारू पीने के बाद थॉमस ने अपना लंड खड़ा करके मेरी चुत में डाल दिया और मुझे अपने ऊपर लेटा लिया. उस रात थॉमस ने मुझे 3 बजे तक चोदा था.उसने मुझे लगातार 4 घंटे चोदा था.

थॉमस और मैं सो गए.

जब मैं उठी, तो दिन के दो बज चुके थे. थॉमस भी उठ गया था. मैं अभी भी थॉमस के ऊपर ही लेटी हुई थी और उसका लंड मेरी चुत में ही था.

मैंने थॉमस को गुड मॉर्निंग विश किया, तो थॉमस भी जाग गया और उसने भी मुझे गुड मॉर्निंग विश किया.

उसने मुझे एक किस की. थोड़ी देर और लेटने के बाद मैंने थॉमस के लंड को अपने हाथ से अपनी चुत से बाहर निकाला और अलग हो गई.

थॉमस ने होटल में फ़ोन करके दो कप कॉफ़ी मंगवाई. हमने कॉफ़ी पी.

उसके बाद मैंने थॉमस से कहा- सर अब डील पूरी कर लेते हैं.
उसने कहा- हां ठीक है.

मैं बाहर के रूम से फ़ाइल उठा लाई और थॉमस ने पेपर पर साइन कर दिए.
मैंने थॉमस को ‘थैंक्स सर..’ बोला.
वो मुस्कुरा दिया.

मैंने थॉमस से बोला- सर प्लीज आप यह बात किसी को मत बताना कि आपने मुझे चोदा था … और खासकर रोहन को बिल्कुल भी मत बताना, वरना मेरी बहुत बदनामी होगी.
थॉमस ने कहा- तुम परेशान मत हो. मैं किसी को नहीं बताऊंगा.

मैं उधर से उठी और वॉशरूम में जाने लगी. मुझसे इस समय बिल्कुल भी नहीं चला जा रहा था. मेरी चाल बिल्कुल बदल गयी थी. मेरी चुत और गांड में भी बहुत दर्द हो रहा था. मैं किसी तरह से वॉशरूम में जाकर फ्रेश हुई और शॉवर लिया. नहाने के बाद मैं नंगी ही बाहर आ गयी. मैंने अपने बैग से ब्रा-पैंटी और मिडी निकाली और ब्रा पहनने लगी.

ये कहानी आप हिंदी सेक्स कहानी डॉट ऑनलाइन पर पढ़ रहे हो।

थॉमस मुझे ही देख रहा था. ब्रा का हुक मुझसे लॉक नहीं हो रहा था. मैं थॉमस के पास गयी और उससे कहा कि सर आप मेरी ब्रा को लॉक कर दो.

उसने मेरी ब्रा को लॉक कर दिया. मैंने अपनी थोंग पैंटी पहनी, फिर मिडी पहन कर स्किन पहनी. फिर थाई शू पहन लिए. अब मैंने अपना मेकअप किया और जाने के लिए पूरी तरह रेडी हो गयी.

मैंने अपने बाकी के कपड़े बैग में रखे और फ़ाइल उठा कर थॉमस को बाय बोल कर वहां से निकल गयी.

मैंने अपनी कार पार्किंग से निकाली और सीधा ऑफिस आ गयी

तो फ्रेंड्स यह थी मेरी चुदाई की कहानी

Leave a Reply